Shikanji (शिकंजी) | Masala Shikanji

शिकंजी गरमी में आपके शरीर को तारोताजा रखने के साथ-साथ ताकत भी प्रदान करता है। शिकंजी की विधि साधारण रूप से नींबू पानी, शर्करा, नमक और मसाले को मिलाकर बनाई जाती है। इसमे मौजुद नींबू और मसाले पचन तंत्र को शांत करने में भी मदद करते हैं। नींबू पानी, जो एक प्राकृतिक इलेक्ट्रोलाइट है, शरीर को ठंडा और तारोताज करने के लिए उपयुक्त है।

इसमे मौजुद विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट और नींबू का स्वाद और स्वास्थ्य लाभ है। शिकंजी में नमक और मसाले पाचन तंत्र को शांत करने में मदद करते हैं। शिकंजी एक प्रसिद्ध और स्वादिस्ट पेय है, जो गर्मी में ठंडा करने और ताज़ा करने के लिए पसंद किया जाता है। इसका सेवन करके लोग थकान और डिहाइड्रेशन से राहत मिलती हैं और तारोताजा महसुस करते हैं।

शिकंजी का स्वाद ठंडा, ताज़ा और एकदम ताज़ा करने वाला होता है। गर्मी में ये शरीर को तारोताजा रखने के साथ-साथ ताकत भी प्रदान करता है। शिकंजी आम तौर पर सड़क के किनारे दुकानों पर और छोटे-बड़े होटल और रेस्टोरेंट में आसानी से मिल जाती है। इसके अलावा, लोग घर पर भी शिकंजी बना कर मजे से पी सकते हैं।इसके अलावा, शिकंजी को अलग-अलग तरीकों से भी बनाया जाता है। कुछ लोग शिकंजी में पुदीना, भुना जीरा पाउडर, अदरक का रस, या कोई मसाला भी मिला देते हैं, जिससे शिकंजी का स्वाद और मजेदार हो जाता है।

Shikanji (शिकंजी)

शिकंजी बनाने के लिए सामग्री:

  1. 4 निम्बू (नींबू)
  2. 4 कप ठंडा पानी
  3. 1/2 कप चीनी
  4. 1/2 चम्मच नमक
  5. 1/2 काला नमक (स्वादनुसर)
  6. 1/2 चम्मच भुना जीरा पाउडर
  7. कुछ पुदीना पत्तियाँ
  8. बर्फ

शिकंजी बनाने की विधि:

  1. सबसे पहले नींबू का रस निकाल लें। रस निकालने से पहले नींबू को नरम करने के लिए उन्हें काउंटरटॉप पर रोल कर सकते हैं।
  2. एक बड़े बाउल या जग में नींबू का रस डालें।
  3. बाउल में पानी डालें और नींबू का रस और पानी को अच्छी तरह हिलाएँ।
  4. मिश्रण में चीनी डालें और तब तक हिलाएं जब तक चीनी पूरी तरह से घुल न जाए।
  5. अब इसमें भुने हुए जीरे का पाउडर, काला नमक और नमक को बाउल में डाल दीजिए. मसाले मिलाने के लिए अच्छी तरह हिलाएँ।
  6. शिकंजी को चखें और चीनी और नमक को अपनी पसंद के अनुसार डालें। यदि आप अधिक मीठा पसंद करते हैं तो आप अधिक चीनी मिला सकते हैं या
  7. यदि आपको तीखा पसंद है तो अधिक नमक मिला सकते हैं।
  8. अब इसे ठंडा करने के लिए फ्रिज में रख दे।
  9. सर्विंग गिलास में बर्फ के टुकड़े भरें और शिकंजी को बर्फ के ऊपर डालें।
  10. ताज़गी भरा स्पर्श देने के लिए ताज़े पुदीने की पत्तियों से गार्निश करें।
  11. यह सुनिश्चित करने के लिए कि मसाले समान रूप से वितरित हों, शिकंजी को परोसने से पहले हिलाएँ।
  12. ठंडी शिकंजी परोसें और अपनी घर पर बनी शिकंजी का आनंद लें!
  13. अपनी स्वाद प्राथमिकताओं के अनुसार सामग्री और माप को समायोजित करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें। कुछ लोग अतिरिक्त स्वाद के लिए इसमें एक चुटकी काली मिर्च या चाट मसाला भी मिलाना पसंद करते हैं। अपनी ताज़ा शिकंजी का आनंद लें!।

 शिकंजी पीने के फायदे :

शिकंजी पीना बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसमें मौजुद तत्व और उनके गुणो के करण ये शरीर के लिए स्वस्थवर्धक है। यहां कुछ कारण है जिनके कारण से शिकंजी पीना चाहिए:

ठंडा करने का काम:

गर्मी के मौसम में शिकंजी शरीर को ठंडा करने का काम करता है। इसमे मौजुद ठंडा पानी और नींबू शरीर की गर्मी को कम करके राहत प्रदान करता है।

पचन तंत्र को सहायता:

शिकंजी के अंदर मौजुद नमक, काला नमक, और मसाले पचन तंत्र के लिए फ़ायदेमंद होते हैं। ये पचन को बढ़ाने और आमाशय को शांत रखने में मदद करते हैं।

विटामिन सी का स्त्रोत:

नींबू शिकंजी का प्रमुख तत्व होता है, जो विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत है। विटामिन सी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जिसे आप स्वस्थ रहते हैं और बीमारियों से लड़ने की आदत बढ़ती है।

स्वस्थ दिल के लिए:

शिकंजी के नियम सेवन से दिल को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। नींबू पानी के एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी दिल की सेहत को सुधारने में मदद करते हैं।

पचन तंत्र को शांत रखा है:

शिकंजी के अंदर मौजुद पुदीना पत्तियां और भुना जीरा पाउडर पचन तंत्र को शांत रखने में मदद करते हैं। इसे पेट की गैस और हाज़मा सही रहता है।

शक्ति प्रदान करता है:

गर्मी में शिकंजी पियें तो आपको तुरंत ऊर्जा मिलती है। शिकंजी में मौजुद ग्लूकोज और इलेक्ट्रोलाइट्स शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं और थकन को दूर करते हैं।

ये कुछ करण जिनकी वजह से शिकंजी पीना चाहिए। ये एक स्वस्थवर्धक और तरसने वाले मौसम में राहत प्रदान करने वाला ड्रिंक है। इसके सेवन से शरीर को पोषण और ताजगी मिलती है। याद रहे, शिकंजी को स्वाद अनुसर मात्रा में और चीनी की मात्रा को कम या अधिक करके बनाएं, अपनी पसंद के अनुसार ।

 

Leave a Comment